• Thu. Jun 20th, 2024

आज भी लोगों के जहन में जिंदा हैं जगजीत सिंह की ये ग़ज़लें

Byukcrime

Oct 10, 2022

लोकप्रिय गजल गायक जगजीत सिंह (Jagjit Singh) को गुजरे आज यानी 10 अक्टूबर 2022 को पूरे 11 साल हो गए। 10 अक्टूबर 2011 में उनका निधन हुआ था। आज भले ही वह हमारे बीच नहीं हैं, लेकिन उनकी आवाज आज भी अमर है। आज भी उनकी आवाज और उनकी गजल लोगों के जेहन में हैं। अपनी आवाज के जादू से उन्होंने कई बड़े पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। उन्हें साहित्य अकादमी अवार्ड मिला से भी नवाजा जा चुका था। साल 2003 में जगजीत सिंह को भारत सरकार ने पद्म भूषण सम्मान से नवाजा गया था। कहते है जिस समय इंडस्ट्री में किशोर कुमार, मोहम्मद रफी जैसे सिंगर्स का बोलबाला था उन दिनों जगजीत सिंह ने अपनी गजलों से अपनी पहचान बनाईं। उनकी गजलों ने न सिर्फ उर्दू के कम जानकारों के बीच शेरो-शायरी की समझ में इजाफा किया बल्कि, गालिब, मीर, मजाज, जोश और फिराक जैसे शायरों से भी उनका परिचय कराया। आइए आपको इनकी कुछ सुपरहिट गजलों से रूबरू करवाते हैं।

ये गजल आज भी सुपरहिट है। जगजीत सिंह, लता मंगेश और आशा भोसले जैसी लेजेंड्री सिंगर्स ने इस गजल को गाया था। गजल को रिया सेन पर फिल्माया गया था। ये गलज दिल कहीं होश कहीं एल्बम की है। यह साल 2008 में रिलीज हुई थी।

साल 1999 में रिलीज हुई आमिर खान की फिल्म सरफरोश में उन्होंने ‘होशवालों को खबर क्या’ गजल गाई थी। इस गजल का आज भी हरकोई दीवाना है। हर कोई इस गजल को गुनगुनाना पसंद करता है।

चिट्ठी न कोई संदेश गजल को जगजीत सिंह ने बेटे की याद में गाया था, लेकिन इसे बाद में फिल्म ‘दुश्मन’ में गाया। एक रोड एक्सीडेंट में उनके 18 साल के बेटे की मौत हो गई थी।

कोई फरियाद तेरे दिल में दबी हो जैसे..तूने आंखों से कोई बात कही हो जैसे। साल 2001 में रिलीज हुई फिल्म ‘तुम बिन’ में इसे जगजीत सिंह ने गाया था। दो दशक बाद, आज भी इस फिल्‍म के गाने हर संगीत प्रेमियों के जेहन में हैं।

By ukcrime

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *